संसदीय सचिव के खिलाफ सतनामी समाज ने खोला मोर्चा… कलेक्ट्रेट में जमकर की नारेबाजी… लगा गंभीर आरोप… जानिए क्या है पूरा मामला…

संसदीय सचिव के खिलाफ सतनामी समाज ने खोला मोर्चा… कलेक्ट्रेट में जमकर की नारेबाजी… लगा गंभीर आरोप… जानिए क्या है पूरा मामला…

बिलासपुर, जनवरी, 9/2023

तखतपुर विधायक और संसदीय सचिव रश्मि आशीष सिंह ठाकुर द्वारा अनुसूचित जाति (सतनामी) समाज के समाजिक नेताओं से दुर्व्यवहार करने व तखतपुर विधायक के द्वारा समाज के लोगों को अपमानित करने के कारण उनके खिलाफ सतनामी समाज के नेता व समाज के लोग बड़ी संख्या में कलेक्ट्रेट पहुँच कर संसदीय सचिव के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंप कर उन्हें पद से हटाने की मांग की है।

कलेक्ट्रेट पहुंचे समस्त अनुसूचित जाति (सतनामी) समाज के लोगो ने बताया कि तखतपुर विधायक रश्मि सिह द्वारा अनुसूचित जाति वर्ग व अन्य समाज के लोगों को भी अपमानित किया जा रहा है। उनके द्वारा अनुसूचित जाति वर्ग के जनप्रतिनिधियों एवं जनता से रे, बे, तु, तुडाक से बात किया जाता है, जो हमारा सामाजिक अपमान है। अनुसूचित जाति वर्ग के लोग मुझे वोट नहीं दिये है उनका काम नहीं करूंगी कहना, समाज के साथ भेदभाव प्रदर्शित करती है। वो कहती है कि मैं पूर्व विधायक ठाकुर बलराम सिंह की बहु और रोहणी कुमार बाजपेई की बेटी हू कभी झुकुंगी नहीं, ऐसा बोलती है।

समाज के लोगो का कहना है कि 31 दिसंबर को तखतपुर के ग्राम काठाकोनी में गुरु घासीदास जी कि जयंति कार्यक्रम का आयोजन सतनामी समाज के द्वारा रखा गया था जहां पर मंच में समाजिक नेता संजीव खाण्डे व अन्य पहले से ही मंचस्थ थे तभी क्षेत्रिय विधायक रश्मि आशीष सिंह वहां पहुंची जिसे देखकर समाजिक नेता मंच से उतर कर किनारे से बाहर जाने लगे। विधायक उनके पास चली गई और तेज आवाज से बोलने लगी, कहां मुंह छुपाके भाग रहे हो। रे, तु तडाक जैसे अमर्यादित शब्दों का प्रयोग करते हुए दुर्व्यवहार करती रही। इससे पुरे विधानसभा में अनुसूचित जाति वर्ग के लोग आक्रोशित है और उनके व्यवहार से दुखी है। जिसके बाद अनुसूचित जाति (सतनामी) वर्ग तखतपुर विधानसभा के लोगो ने इसकी कड़ी निंदा करते हुए तखतपुर विधायक रश्मि आशीष सिंह ठाकुर के विरूद्ध निंदा प्रस्ताव पारित किया है और यह निर्णय लिया गया है की तखतपुर क्षेत्र के लगभग 45 हजार वोट बैंक वाली अनुसूचित जाति समाज तखतपुर विधायक रश्मि आशीष सिंह को दोबारा समर्थन नहीं देगी। विधायक के साथ मंच पर नहीं बैठने का एक ही कारण था कि विधायक अनुसूचित जाति समाज के साथ अमर्यादित व्यवहार व जातिगत भेद-भाव रखते है।

समाज के लोगों ने आगे कहा है कि तखतपुर विधायक रश्मि आशीष सिंह की निंदा प्रस्ताव पारित होने के बाद अनुसूचित जाति (सतनामी) समाज तखतपुर के समाजिक नेताओं के प्रति उनका वेश और भी बढ़ गया है साथ ही समाजिक नेताओं के उपर खतरा भी बढ़ गया है जिससे उनके द्वारा कभी भी समाज के नेताओं को झूठी केस में फसाया जा सकता है या कोई अप्रिय घटना घटित किया जा सकता है, इसलिए खतपुर विधानसभा के हमारे समाज के किसी भी समाजिक नेताओं पर कोई भी घटना या दुर्घटना घटित होता है तो इसके जिम्मेदार तखतपुर के विधायक रश्मि आशिष सिंह होंगे। इस मामले में सतनामी समाज ने कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खडगे और प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम सहित शिव डहरिया नगरिय प्रसाशन मंत्री, पुलिस महानिरिक्षक, कलेक्टर, एसपी बिलासपुर को शिकायत भेजी है।

Author Profile

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor
Latest entries

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor

Next Post

अवैध शराब विक्रेताओं पर आबकारी की कार्यवाही... 140 लीटर जप्त... 5 आरोपी गिरफ्तार...

Tue Jan 10 , 2023
अवैध शराब विक्रेताओं पर आबकारी की कार्यवाही… 140 लीटर जप्त… 5 आरोपी गिरफ्तार… बिलासपुर, जनवरी, 10/2022 आबकारी वृत्त तखतपुर ने अवैध शराब पर कार्यवाई की है जिसमे 5 आरोपियों को पकड़ कर उनसे 140 लीटर अवैध शराब जप्त कर सभी को जेल भेजा गया है। कलेक्टर बिलासपुर सौरभ कुमार के […]

You May Like

Breaking News