वन विभाग ने उड़ाई सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां ,,  कोरोना महामारी में शासन के  दिशा-निर्देशों को दरकिनार कर वन विभाग का जंगल में प्रशिक्षण कैम्प आयोजित ,,  DFO की मौजूदगी में चली जंगल मे चिकन पार्टी ,,

वन विभाग ने उड़ाई सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां ,, कोरोना महामारी में शासन के दिशा-निर्देशों को दरकिनार कर वन विभाग का जंगल में प्रशिक्षण कैम्प आयोजित ,, DFO की मौजूदगी में चली जंगल मे चिकन पार्टी ,,

कोरबा(पाली) // विश्व वैश्विक नोवेल कोरोना वायरस संक्रमण के रोकथाम को लेकर केन्द्र सरकार द्वारा देशभर में लगातार पाँचवे चरण का लाकडाउन लगाया गया है ताकि कोरोना वायरस के सक्रमण की चपेट में आने से जनमानस को बचाया जा सके।उक्त संक्रमण से बचाव हेतु किसी भी प्रकार के भीड़ इकट्ठी होने वाले कार्यक्रम, समारोह, जलसा, बैठकें आदि का आयोजन करने पर पूर्णतः रोक लगाया गया है।इन सबके बीच शासन-प्रशासन के दिशा-निर्देशों को धत्ता बताते हुए और बेखौफ होकर जंगल भीतर वन अधिकारियों-कर्मचारियों के भारी उपस्थिति में विभागीय प्रशिक्षण कैम्प आयोजित किया गया जहाँ शाकाहारी के साथ मांसाहारी भोजन पार्टी का भी लुफ्त उठाया गया।

मामला है वनमंडल कटघोरा अंतर्गत वन परिक्षेत्र पाली का जहाँ बीते 04 जून बुधवार को चैतुरगढ क्षेत्र में जेमरा के समीप रतखंडी जाने वाले मुख्यमार्ग से लगभग एक किलोमीटर दूर भीतर जंगल में वन विभाग द्वारा नरवा, गरुवा, घुरवा, बारी के नाम पर प्रशिक्षण कैम्प आयोजित किया गया था।जिसमे स्वयं डीएफओ के अलावा एसडीओ सहित जटगा, चैतमा एवं पाली परिक्षेत्राधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित हुए थे।जिनकी संख्या लगभग 70 से 80 में थी।जहाँ बकायदा टेंट लगवाकर शाकाहारी के अलावा मांसाहारी भोजन पार्टी का भी जमकर लुफ्त उठाया गया।जिसके पश्चात शाम को सभी वापस लौटे।विदित हो कि इन दिनों पूरा देश कोरोना वायरस के भयावह संक्रमण से बचने जंग लड़ रहा है और लोगबाग मास्क का उपयोग के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए भीड़भाड़ से भी बच रहे है।ऐसे में दूर जंगल के भीतर प्रशिक्षण कैम्प के नाम पर भीड़ इकट्ठी किया जाना समझ से परे है।

एक तरफ वर्तमान संकट की इस घड़ी में हर एक व्यक्ति शासन,प्रशासन के दिशा-निर्देशों का बखूबी पालन करते हुए एहतियात बरत रहा है।जबकि जवाबदार प्रशासनिक नौकरशाह द्वारा ही अपने प्राथमिक कर्तव्य एवं शासकीय आदेश को दरकिनार कर प्रशिक्षण कैम्प आयोजित कर भोजन पार्टी का मजा लेते हुए पाया गया।उक्त पुरे मामले में जब प्रतिक्रया जानने पाली परिक्षेत्राधिकारी प्रहलाद यादव से संपर्क किया गया लेकिन उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।और उनकी प्रतिक्रिया नही मिल पाई।

Author Profile

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor
Latest entries

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor

Next Post

बिलासपुर के बहुचर्चित बिल्डर व समाज सेवक हरदीप सिंह खनूजा को सुप्रीम कोर्ट से मिली बड़ी राहत ,, आगामी आदेश तक दंडात्मक कार्यवाही पर कोर्ट ने लगाई रोक ,,

Fri Jun 5 , 2020
बिलासपुर के बहुचर्चित बिल्डर व समाज सेवक हरदीप सिंह खनूजा को सुप्रीम कोर्ट से मिली बड़ी राहत ,, बिलासपुर // शहर के चर्चित बिल्डर हरदीप सिंह खूनजा की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अंतरिम राहत प्रदान कर दी है। तीन सदस्यीय पीठ ने राज्य शासन को जारी […]

You May Like

Breaking News