टिकट कटता है महाराष्ट्र में तो स्टेशन मास्टर बैठते हैं गुजरात में ,, ट्रेन रुकने पर इंजन महाराष्ट्र में तो गार्ड का डिब्बा गुजरात में ,,

टिकट कटता है महाराष्ट्र में तो स्टेशन मास्टर बैठते हैं गुजरात में ,,

बिलासपुर (शशि कोन्हेर ) //स्टेशन के बीचो-बीच दो राज्यों की सीमा रेखा गुजरने की वजह से नवापुर रेलवे पर पुलिस स्टेशन, रिफ्रेशमेंट रूम, बुकिंग काउंटर आदि महाराष्ट्र के नंदूरबार जिले के नवापुर में आते हैं। जबकि स्टेशन मास्टर का कमरा, पैसेंजर्स वेटिंग रूम, शौचालय आदि गुजरात राज्य के तापी जिले के उच्छल में पड़ता है।

ट्रेन रुकनेरुकने पर इंजन महाराष्ट्र में तो गार्ड का डिब्बा गुजरात में …

इस स्टेशन पर जब कोई ट्रेन आती है और रुकती है तो इसका पूरा हिस्सा एक राज्य में नहीं पड़ता। सूरत-भुसावल लाइन पर स्थित इस स्टेशन पर यदि ट्रेन भुसावल की ओर जा रही है तो इंजन महाराष्ट्र में जबकि गार्ड डिब्बा गुजरात में रहता है। यदि ट्रेन सूरत की तरफ जा रही है तो इंजन गुजरात में रहती है तो गार्ड वाला डिब्बा महाराष्ट्र में।

जब स्टेशन बना था तब बाम्बे प्रसीडेंसी में था …

जब नवापुर स्टेशन बनाया गया था तब महाराष्ट्र और गुजरात का बंटवारा नहीं हुआ था और स्टेशन बाम्बे प्रेसीडेंसी में पड़ता था। लेकिन जब महागुजरात आंदोलन के जरिए अगल गुजरात राज्य बनाने की मांग हुई तो 1960 में बंटवारा कर महाराष्ट्र और गुजरात बनाया गया। बंटवारे में नवापुर स्टेशन दोनों राज्यों के बीचो-बीच आ गया।

Author Profile

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor
Latest entries

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor

Next Post

रेलवे : बेंच एक ही मगर दाहिनी तरफ शराब लेकर बैठने से होगी जेल और बाएं तरफ शराब लेकर बैठेंगे तो कोई मना नहीं करेगा ,,

Sun Jun 21 , 2020
” बेंच एक ही मगर उसके दाहिनी तरफ शराब लेकर बैठने से होगी जेल और बाएं तरफ शराब लेकर बैठेंगे तो कोई मना नहीं करेगा ,, बिलासपुर // एक बार फिर हम महाराष्ट्र और गुजरात की सरहद पर बसे नवापुर स्टेशन की बात कर रहे हैं। इस स्टेशन पर शराब […]

You May Like

Breaking News