भाजपा का धरना आंदोलन, भूपेश सरकार के खिलाफ जमकर की नारेबाजी , नगरीय निकाय चुनाव को प्रत्यक्ष नही कराना लोकतंत्र के अधिकारों का हनन, राज्यपाल के नाम सौंप ज्ञापन ..

बिलासपुर // भारतीय जनता पार्टी ने छत्तीसगढ़ प्रदेश सरकार के खिलाफ नगरीय निकायों में महापौर व अध्यक्ष का प्रत्यक्ष चुनाव नही कराने लोकतांत्रिक प्रक्रिया से सीधे जनता के अधिकारों के हनन करने व बैलेट पेपर से चुनाव कराए जाने के फैसले को लेकर विकास भवन के पास नेहरू चौक बिलासपुर में भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने धरना प्रदर्शन कर महामहिम राज्यपाल महोदया के नाम अतिरिक्त कलेक्टर को ज्ञापन सौंप कर राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारे बाजी की गई।

धरने को संबोधित करते हुए भाजपा प्रदेश प्रवक्ता भूपेन्द्र सवन्नी ने कहा कि छत्तीसगढ़ शासन द्वारा गठित मंत्रिमंडलीय उपसमिति ने शासन की मंशा के अनुरूप महापौर एवं अध्यक्ष का चुनाव अप्रत्यक्ष रूप से कराने की अनुशंसा की है। साथ ही निकाय चुनाव इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के बदले बैलेट पेपर से कराने की सिफारिश भी की गई है। इन दोनों पूर्व नियोजित सिफारिशों से अब इस बात का स्पष्ट खुलासा हो गया है कि कांग्रेस सरकार इस चुनाव को ग़लत तरीके से प्रभावित करना चाहती है। शासन के इस निर्णय से सत्ता बल, धनबल और बाहुबल के जमकर दुरुपयोग का रास्ता खुलेगा और निःसंदेह ऐसा ही कांग्रेस की सरकार करना भी चाहती है। बैलेट से चुनाव कराना समय साध्य, श्रम साध्य और यहां तक की बड़ी संख्या में कागज की बर्बादी के कारण पर्यावरण के भी प्रतिकूल होगा। सारी सरकारी मशीनरी लंबे समय तक तमाम शासकीय कार्यों को छोड़ इसी में जुटी रहेगी।

वही के भाजपा जिलाध्यक्ष व बेलतरा विधायक रजनीश सिंह ने कहा कि प्रदेश निर्माण से अब तक महापौरों के चुनाव प्रत्यक्ष पद्धति द्वारा ही होते रहे हैं। चुनाव में चाहे किसी की भी विजय या पराजय हुई हो, भाजपा ने हमेशा समूची विनम्रता के साथ जनादेश को स्वीकार किया है। बैलेट पेपर से चुनाव कराने का निर्णय लेने का वैसे भी इस सरकार को इसलिए अधिकार नहीं है, क्योंकि यह सरकार खुद इवीएम से चुनकर आई है। अगर वास्तव में इस शासन को इवीएम पर भरोसा नहीं हो, तो पहले उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए था। ऐसा नहीं कर इस तरह का दोहरा मापदंड अपनाना किसी भी शासन के लिए उचित नहीं कहा जा सकता। हम सब जानते हैं कि भारत की चुनाव प्रणाली की साख दुनिया भर में है। इवीएम आ जाने के बाद जिस तरह दुनिया के इस सबसे बड़े लोकतंत्र ने निष्पक्षता और कुशलता के साथ चुनावों को सम्पन्न करा कर साख बनाई है, इस निर्णय से गंभीर नुकसान पहुंचने की आशंका है।
मस्तूरी विधायक डॉ.कृष्णमूर्ति बांधी ने भूपेश सरकर पर कटाक्ष करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार अपनी विफलता से डरी हुई है, इस कारण जनता को सीधे अध्यक्ष व महापौर चुनने का अधिकार मतदाताओ से छीनना चाहती है जिसका हर स्तर पर विरोध करने का निर्णय भाजपा ने किया है। प्रदेश भर में सत्ताधारी दल के लोग हिंसा एवं अन्य उपायों का सहारा लेकर प्रदेश का माहौल और ज्यादा खराब करेंगे। बूथ कैप्चरिंग आदि को भी बैलेट पेपर से बढ़ावा मिलेगा।इसके अलावा चुंकि निकायों में दल-बदल विरोधी कानून भी लागू नहीं है, अतः पूरे प्रदेश में खरीद-फरोख्त आदि की आशंका को भी बल मिलेगा। साथ ही सबसे महत्वपूर्ण नगरीय निकाय चुनावों में मतदाताओं से अपना महापौर चुनने का अधिकार छीन लेने की कोशिश भी आपत्तिजनक और घोर निंदनीय है। यह लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं की हत्या के समान ही माना जाना चाहिए।

महापौर किशोर राय ने बताया कि नगरीय निकाय में नगर पालिक निगम में महापौर, नगर पालिका व नगर पंचायत में अध्यक्ष का चुनाव लोकतांत्रिक प्रक्रिया से सीधे जनता द्वारा चुना जाता रहा है, परन्तु वर्तमान छत्तीसगढ़ सरकार जनता के सीधे चुनाव करने के अधिकार को छीन कर पार्षदों द्वारा महापौर व अध्यक्ष का चुनाव पार्षदों द्वारा किया जाएगा, जबकि प्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली में आमजनता को दो मत देने का अधिकार मिलता है एक महापौर अध्यक्ष चुनाव हेतु एवं एक मत पार्षद चुनाव हेतु लेकिन छत्तीसगढ़ सरकार अप्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली से चुनाव कराकर आमजनता के दो मत देने के लोकतांत्रिक अधिकारों में से एक मत कम कर आमजनता के लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन कर रही है।
धरने को पूर्व महापौर विनोद सोनी, जोन प्रभारी महेश चंद्रिकापुरे, मंडल अध्यक्ष धीरेन्द्र केशरवानी, विभा गौरहा, संजय मिश्रा, प्रकाश यादव, दाउ शुक्ला, किरण सिंह, रोहित मिश्रा, पवन ठाकुर, जवाहर बांधेकर ने संबोधित कर राज्य सरकार के खिलाफ लोकतंत्र की हत्या का आरोप लगाते हुए पुरानी पद्धति से ही नगरीय निकाय चुनाव कराए जाने की मांग की।

धरने का संचालन भाजयुमो जिलाध्यक्ष दीपक सिंह ठाकुर ने किया। इस मौके पर भाजपा जिला महामंत्री रामदेव कुमावत, भाजपा जिला उपाध्यक्ष स्नेहलता शर्मा, सभापति अशोक विधानी, मंडल अध्यक्ष सहदेव कश्यप, धीरेन्द्र केशरवानी, गोपी ठारवानी, सुब्रत दत्ता, सतीश गुप्ता, जी रवि कुमार, तिलक साहू, यदुराम साहू, दीपक सिंह ठाकुर, विनोद सोनी, रामू साहू, राजेन्द्र अग्रहरि, राजेश रजक, उमेश यादव, राजेश मिश्रा, अजीत सिंह भोगल, प्रवीण दुबे, मनीष अग्रवाल, चंद्रप्रकाश मिश्रा, जयश्री चौकसे, संध्या सिंह, सीमा पाण्डेय, संध्या चौधरी, रश्मि मौर्य, बबीता ताम्रकार, किरण सिंह, धर्मेन्द्र चन्द्राकर, बबलू कश्यप, ईडी हेनरिक, रमेश जायसवाल, किशोर यादव, शैलेन्द्र यादव, रंगा नादम, अमरदीप बोलर, अमित तिवारी, आदित्य तिवारी, दाउ शुक्ला, रोहित मिश्रा, नारायण गोस्वामी, सुकांत वर्मा, कार्तिक यादव मीना गोस्वामी, राजेन्द्र भंडारी, चंदना गोस्वामी, संजय मुरारका, फैजान खान, कविता वर्मा, कंचन दुसेजा, सन्नी रजक, प्रवीण सतवानी, प्रहलाद दुसेजा, श्यामलाल बंजारे, राहुल अग्रवाल, विकास शुक्ला, छोटेलाल महिलांगे, मोहित सिंह, लक्ष्मीकांत शास्त्री, विजय यादव, बलराम हरियाणी, ओंकार केशरवानी, विष्णु सोनी, बिज्जू राव, अखिलेश यादव, रोहित कैवर्त, जवाहर बांधेकर, बलराम देवांगन, अनमोल झा, ऋषभ चतुर्वेदी, महर्षि बाजपेयी, महेन्द्र जायसवाल, गिरधारी सिंह, मनोज सिंह, नीरज यादव, अनिल गुप्ता, हेम पाण्डेय, थानूराम साहू, रमेश, बंशीलाल साहू, मनोज कश्यप, स्वयंबर यादव, आलेख वर्मा, विरेन्द्र चौधरी, जितेन्द्र जांगड़े, लखन शर्मा, आनंद कश्यप, शिवकुमार साहू, विकास सलूजा, कार्तिक यादव सहित भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित थे।

विज्ञापन

Author Profile

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor
Latest entries

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor

Next Post

गुणवत्ताहीन सड़को की बारिश में खुली पोल अब निगम करा रही सड़कों की मरम्मत का काम , शहर की 20 सड़कों का 30 किमी. तक होगा पेंच वर्क ..

Thu Oct 17 , 2019
बिलासपुर // विधानसभा चुनाव के वक़्त शहर में बनी चुनावी सड़को की गुणवत्ता की पोल बारिश में खुल गयी बारिश में सड़के उधड़ गयी थी जिस से शहर की सड़कों पे जगह जगह गड्ढे हो गए लेकिन निगम चुनाव नजदीक आते ही इन गड्ढेयुक्त सड़को की सुध ली जा रही […]

You May Like

Breaking News