रेलवे : अंग्रेजो के समय से चली आ रही बंगला खलासी ( सीधी भर्ती ) पद पर अब नही होगी भर्ती ,, जोनल रेलवे से मांगा गया रिव्यू ,,

newslook.in // रेलवे में सीधी नौकरी की आस देख रहे युवाओं को झटका लगा है। ग्रुप डी में बंग्ला खलासी के पद पर होने वाली भर्ती अब नहीं होगी। रेलवे बोर्ड की ओर से इस पद पर भर्ती रोकने का आदेश दिया गया है। हालांकि जोनल रेलवे से इस पद पर भर्ती का एक रिव्यू मांगा गया है। ऐसे में अब इस पद पर भर्ती होने की संभावना लगभग खत्म हो चुकी है।

बंग्ला खलासी ऐसा पद है जिस पर सीधी भर्ती हो जाती थी। ऐसे युवा जो शैक्षणिक योग्यता पूरी करते थे, उन्हें जूनियर ग्रेड अधिकारी तक को अपने बंग्ले पर नियुक्त करने का अधिकार होता था। कर्मचारियों को पांच साल की नौकरी अधिकारी के साथ करनी होती थी, बाद में उसे नियमित कर दिया जाता था। इस दौरान भर्ती होने वाले युवा को नौकरी के पहले दिन से वेतन उतना ही मिलता था जो नियमित कर्मचारी को मिलता है। साथ ही एक निश्चित अवधि पूरी होने के बाद स्थायी नियुक्ति का लाभ मिल जाता था। तमाम युवा इसी आस में अफसरों के घरों में काम करते थे। इस भर्ती के तहत आने वाले युवाओं को ग्रुप डी की भर्ती परीक्षाओं से नहीं गुजरना होता था। ज्यादातर ऐसे कर्मचारी पूरी नौकरी अधिकारियों के बंग्ले पर गुजार देते थे। कई बार नियुक्ति नियमित होने पर आगे विभागीय कार्यवाही के बाद उन्हें प्रमोशन मिल जाता था। सीपीआरओ अजीत सिंह का कहना है कि मामले पर रेलवे बोर्ड ने जोनल रेलवे से विचार मांगे हैं। एक जुलाई के बाद जो भी भर्ती इस पद पर हुई है उस पर रिव्यू कर विचार मांगे हैं। जिस पर विचार कर रिपोर्ट तैयार की जा रही है।

अधिकारी बंगलों पर तैनात कर्मचारियों की होगी जांच …

अधिकारियों के बंगले पर काम करने वाले ट्रैकमैन, कीमैन जैसे तमाम कर्मचारियों को ड्यूटी पर वापस लगाने को लेकर रेलवे बोर्ड ने एक बार फिर कमर कसी है। दरअसल, इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल, कमर्शियल, परिचालन समेत तमाम अधिकारियों के बंगलों पर उनसे जुड़े चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी तैनात हैं। बोर्ड को लगातार इसकी शिकायत मिल रही है। इसको लेकर रेलवे बोर्ड ने एक बार फिर इसकी जांच के निर्देश जारी किए हैं। हालांकि, इससे पहले भी रेल अधिकारियों से शपथपत्र भरवाए गए थे लेकिन अभी भी लखनऊ मंडल में उत्तर और पूर्वोत्तर रेलवे के अफसरों के घरों में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की तैनाती हो रखी है।

Author Profile

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor
Latest entries

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor

Next Post

रेलवे : फेस्टिवल सीजन के चलते फूल हो चुकी ट्रेनें ,, ट्रेनों में नो रूम की स्थिति ,, जानिए क्या है ट्रेनों के हाल ,,

Sat Aug 8 , 2020
दशहरा, दिवाली और छठ के चलते फुल हो चुकी हैं ट्रेनें, जानें क्या है ट्रेनों के हाल, ये विकल्प हैं खुलें ,, दशहरा, दीपावली और छठ पर घर जाने वालों की भीड़ अधिक होने की वजह से ट्रेनों में सीटें फुल हैं. वेटिंग लिस्ट भी इतनी लंबी हो चुकी है […]

You May Like

Breaking News