रेलवे : बेंच एक ही मगर दाहिनी तरफ शराब लेकर बैठने से होगी जेल और बाएं तरफ शराब लेकर बैठेंगे तो कोई मना नहीं करेगा ,,

” बेंच एक ही मगर उसके दाहिनी तरफ शराब लेकर बैठने से होगी जेल और बाएं तरफ शराब लेकर बैठेंगे तो कोई मना नहीं करेगा ,,

बिलासपुर // एक बार फिर हम महाराष्ट्र और गुजरात की सरहद पर बसे नवापुर स्टेशन की बात कर रहे हैं। इस स्टेशन पर शराब लेकर बेंच की दाहिनी तरफ बैठेंगे तो जेल पहुंच जाएंगे, बायीं तरफ बैठेंगे तो कोई बात नहीं ।

पश्चिम रेलवे के मुंबई डिवीजन (Mumbai Division of Western railway) में नवापुर (Navapur) एक अनोखा स्टेशन है, जिसके प्लेटफार्म पर आप शराब की बोतल लेकर जा सकते हैं और नहीं भी जा सकते हैं। दरअसल इस स्टेशन का आधा हिस्सा महाराष्ट्र (Maharashtra) में पड़ता है जबकि आधा हिस्सा गुजरात (Gujrat) में। गुजरात में शराब बंदी है जबकि महाराष्ट्र में ऐसी बात नहीं है। इसलिए स्टेशन के महाराष्ट्र वाले हिस्से में कोई शराब की बोतल लेकर जा सकता है, पर गुजरात वाले हिस्से में लेकर जाएंगे तो जेल जाने की नौबत आ सकती है।

मुंबई डिवीजन का नवापुर रेलवे स्टेशन अपनी भौगोलिक स्थिति के लिए जाना जाता है। दरअसल जब यह स्टेशन बनाया गया था, तब महाराष्ट्र और गुजरात का बंटवारा नहीं हुआ था। उस समय यह बाम्बे प्रेसीडेंसी में आता था। बाद में जब अलग गुजरात राज्य का गठन हुआ है तो महाराष्ट्र और गुजरात की सीमा रेखा स्टेशन के बीचो-बीच गुजरी।

बेंच की बायीं तरफ शराब लेकर बैठ सकते हैं
इस स्टेशन पर दशकों पुराना लकड़ी का एक बेंच पड़ा हुआ है, उस पर भी गुजरात और महाराष्ट्र का बार्डर बना हुआ है। बेंच की बायीं तरफ का हिस्सा महाराष्ट्र में है, जहां शराब बंदी नहीं है। मतलब वहां आप शराब की बोतल लेकर आएंगे तो दिक्कत नहीं है। लेकिन जैसे ही दाहिनी तरफ, मतलब गुजरात वाले हिस्से में बैठेंगे तो पुलिस पकड़ कर जेल भेज सकती है, क्योंकि गुजरात में शराब बंदी है।

Author Profile

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor
Latest entries

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor

Next Post

मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप ग्रामीण अंचलों में ’रोका-छेका’ की परंपरा को और प्रभावी बनाने, सरकार और प्रशासन ने कसी कमर ,, गौठानों की व्यवस्था को सुदृढ़ करने राज्य सरकार ने तैयार किया विस्तृत रोड मेप ,,

Sun Jun 21 , 2020
मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप ग्रामीण अंचलों में ’रोका-छेका’ की परंपरा को और प्रभावी बनाने, सरकार और प्रशासन ने कसी कमर ,, गौठानों की व्यवस्था को सुदृढ़ करने राज्य सरकार ने तैयार किया विस्तृत रोड मेप ,, गौठान प्रबंधन समितियां अनुदान राशि से खुले में घूमने वाले मवेशियों के नियंत्रण, […]

You May Like

Breaking News