विद्युत आपूर्ति सामान्य करने, दिन-रात जुटा है पूरा अमला …

विद्युत आपूर्ति सामान्य करने, दिन-रात जुटा है पूरा अमला …

बिलासपुर 1 सितम्बर 2020 // प्रदेश में हुये लगातार बारिश एवं तूफान ने आम जन-जीवन के साथ ही विद्युत व्यवस्था को पूरी तरह से प्रभावित किया है, जिसके कारण छत्तीसगढ़ स्टेट पाॅवर डिस्ट्रीब्यूषन कंपनी लिमिटेड बिलासपुर क्षेत्र के अंतर्गत बाहरी एवं ग्रामीण इलाकों के सैकडों बिजली के खंभे व ट्रांसफार्मर बाढ़ की चपेट में आने से विद्युत व्यवस्था प्रभावित हुई है। जिसे सामान्य करने विभाग के अधिकारी, कर्मचारी दिन-रात जुटे हुये हैं।
कार्यापालक निदेशक (बि.क्षे.) छ.ग. स्टेट पाॅवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड बिलासपुर भीम सिंह कंवर ने बताया कि लगातार बारिष से सभी नदी-नाले उफान पर हैं जिसके कारण तटीय ग्रामीण क्षेत्रों में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। बिलासपुर (संचा./संधा.) संभाग के अंतर्गत विभिन्न गांवों की विद्युत आपूर्ति बाधित है, कई स्थानों पर बिजली के खंभे, तार टूट कर गिर गये हैं। ट्रांसफार्मर के साथ ही अन्य उपकरणों तक 4 से 5 फीट पानी भर जाने के कारण सुधार कार्य में अत्यंत ही कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। किंतु विभाग के कर्मचारियों ने 24 घंटे निरंतर कार्य करते हुये अधिकतर स्थानों पर बिजली व्यवस्था को सुचारू करने में सफलता पायी है। कार्यपालन अभियंता सुरेष जांगडे ने बताया कि मुकंुदपुर, सरवानी, सोन, अकोला, अमलड़ीहा एवं सोनसरी गांव में बाढ़ एवं तेज हवा आने से विद्युत सप्लाई बुरी तरह से प्रभावित थी, जिसे कम समय में ही विभाग के कर्मचारियों द्वारा सुधार कार्य पूर्ण कर बिजली की आपूर्ति आरंभ की जा चुकी है।

भीम सिंह कंवर ने विभाग के अधिकारी, कर्मचारियों को इस विकट परिस्थितियों में भी चुनौतियों का सामना करते हुए अधिकांष क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति बहाल करने के लिये सभी की सराहना की साथ ही विद्युत कर्मियों को उपभोक्ताओं के हित में सदैव तत्पर रहने को कहा हैं।

Author Profile

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor
Latest entries

Lokesh war waghmare - Founder/ Editor

Next Post

मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से लगभग 15 प्रतिशत बच्चे हुये कुपोषण से मुक्त ...

Tue Sep 1 , 2020
मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से लगभग 15 प्रतिशत बच्चे हुये कुपोषण से मुक्त … बिलासपुर 1 सितम्बर 2020 // मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के प्रथम चरण के सफल क्रियान्वयन के परिणाम स्वरूप जिले में चिन्हित 26816 बच्चों में से लगभग 15 प्रतिशत बच्चे कुपोषण से बाहर हो गये है। महिला एवं बाल […]

You May Like

Breaking News